इन 10 बातों का ध्यान रखेंगे तो आसानी से मिल जाएगा छोटा बिजनेस लोन

अगर आप अपने छोटे बिजनेस को फैलाने पर विचार कर रहे हैं तो आपको विभिन्न गतिविधियों के लिए कैश की जरूरत होगी, जिससे आप कंपनी को सही दिशा में आगे ले जा सकें. विभिन्न बैंकों, कर्जदाताओं और एनबीएफसी से छोटे बिजनेस लोन लिए जा सकते हैं. लेकिन जब बात बिजनेस फंडिंग जुटाने की आती है तो आपको यह पता होना चाहिए कि लोन देने के लिए कर्जदाता आपसे क्या चाहता है.

आज हम आपको 10 ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिससे आपकी बिजनेस लोन की प्रक्रिया आसान हो जाएगी.

आपको लोन क्यों और कितना चाहिए?

छोटा कारोबार लोन लेने की प्लानिंग करते वक्त यह पहला सवाल होता है जो आपको खुद से पूछना चाहिए. क्योंकि यही सवाल कई कर्जदाता आपसे पूछेंगे. अपने जवाबों से आपको कर्जदाता को संतुष्ट करना होगा. आपका कारोबार कितना स्थापित है, इसकी समीक्षा करते हुए आपके लिए यह जानना आसान हो जाएगा कि कितनी राशि पाने के लिए आपको अप्लाई करना चाहिए. जो राशि चाहिए, उसका अनुमान न लगाएं. इन श्रेणियों के जरिए अपने बिजनेस फंडिंग के लिए कारणों को मालूम करें

– कच्चा माल या इन्वेंट्री खरीदना
– मशीनें या उपकरण खरीदना.
– इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाना या विस्तार करना.
– टीम बढ़ाना या स्टाफ को हायर करना.
– मार्केंटिंग या विज्ञापन के खर्चे
– बिजनेस के अन्य खर्चों को चुकाना

इस समीक्षा के जरिए आप मासिक पुनर्भुगतान को जुटा पाएंगे और बिना किसी परेशानी के ब्याज भी चुका देंगे.

कर्ज पाने के कितने विकल्प उपलब्ध हैं, जानिए

क्रेडिट के पूल में गोता मारने से पहले मौजूदा विभिन्न उधार विकल्पों पर विचार करें और तय करें कि आपके बिजनेस के लिए सबसे अच्छा क्या है. पारंपरिक कर्जदाता जैसे बैंक तो हमेशा ही उपलब्ध हैं. लेकिन अब गैर-पारंपरिक कर्जदाता जैसे एनबीएफसी मशहूर हो रहे हैं. ये मध्यम एवं छोटे और लघु उद्योगों को लोन मुहैया कराते हैं. इसके अलावा आप इन विकल्पों का भी रुख कर सकते हैं.

– क्रेडिट यूनियन्स
– क्राउड फंडिंग
– पर्सनल लोन
– बिजनेस क्रेडिट कार्ड्स
– नॉन प्रॉफिट माइक्रो लेंडर्स

तेज और बिना झंझट वाले सही कर्ज के विकल्प को चुनना आपके बिजनेस के लिए फायदेमंद साबित होगा.

कर्जदाताओं के बारे में पता लगाएं: आज लोन मार्केट ऐसे कर्जदाताओं से भरा पड़ा है, जो लोन लेने को तैयार हैं. लेकिन चुनने से पहले अच्छी तरह रिसर्च कर लें. उनके फायदे और नुकसान को समझने के बाद ऐसे कर्जदाताओं को शॉर्टलिस्ट करें, जो किफायती दरों पर लोन देने के लिए तैयार हों. आमतौर पर  इसमें बैंक, एनबीएफसी, पीयर-टू-पीयर लेंडिंग और वेंचर कैपिटलिस्ट शामिल होते हैं.

अपना क्रेडिट स्कोर जांचें

अपने क्रेडिट स्कोर का पता लगाना बेहद जरूरी है. ऐसा इसलिए क्योंकि आपके क्रेडिट स्कोर के आधार पर ही कर्जदाता आपकी विश्वसनीयता और जोखिम का लेवल जान पाएंगे. इसलिए छोटा बिजनेस लोन अप्लाई करने से पहले अपनी कंपनी क्रेडिट रिपोर्ट (CCR) चेक कर लें. पहली बार कर्ज लेने वालों के लिए व्यक्तिगत क्रेडिट स्कोर को बरकरार रखना बहुत जरूरी है.
कर्जदाता शायद उस पर भी विचार करें.

अपनी फाइनेंशियल स्टेटमेंट सही क्रम में लगाएं: क्रेडिट स्कोर जानने के बाद अपनी फाइनेंशियल स्टेटमेंट को सही क्रम में लगाएं. लोन की प्रकृति और उसके आकार को देखते हुए कर्जदाता बहुत ध्यान से इन स्टेटमेंट्स को रिव्यू करते हैं. इसलिए ध्यान रहे कि प्रॉफिट एंड लॉस की स्टेटमेंट, बैलेंस शीट और कैश फ्लो स्टेटमेंट्स अपडेट और सही हों. बिजनेस फंडिंग के चांस को और बेहतर करने के लिए फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स किसी अनुभवी पब्लिक चार्टेड अकाउंटेंट से चेक करा लें.

सभी बिजनेस दस्तावेज और उसकी विस्तृत जानकारी जुटाएं

बिजनेस लोन हासिल करने के लिए फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स के अलावा ऐसे कई बिजनेस दस्तावेज हैं, जो आपको असेंबल करने होंगे. इसलिए इन दस्तावेजों के साथ पहले ही तैयार रहें.

– बिजनेस का नाम
– जीएसटी रजिस्ट्रेशन
– बिजनेस एक्जीक्यूटिव की लिस्ट और उनका बैकग्राउंड
– सभी कानूनी दस्तावेज (मेमोरेंडम, डीड और एलएलसी)
– प्रोजेक्टेट फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स
– लाइसेंस अग्रीमेंट्स
– बिजनेस क्रेडिट रिपोर्ट
– प्रिंसिपल शेयरहोल्डर/बिजनेस मालिक के फाइनेंशियल स्टेटमेंट्स.
– बिजनेस प्लान और एग्जीक्यूटिव समरी
– पिछले 2-3 साल के इनकम टैक्स रिटर्न्स.
– पैन कार्ड और पहचान पत्र.

अपनी ऑनलाइन मौजूदगी अपडेट रखें

छोटे बिजनेस के लिए कर्ज देने वाले आपके बिजनेस का बैकग्राउंड चेक करने के लिए इंटरनेट या सोशल नेटवर्किंग साइट्स को चेक कर सकते हैं.  स्टेकहोल्डर्स और ग्राहक आपके बिजनेस के बारे में क्या सोचते हैं, बिजनेस के मालिक की ऑनलाइन जानकारी और इंडस्ट्री की आपके बिजनेस को लेकर सोच, उन्हें आपके कारोबार के बारे में बहुत कुछ बताती है. इसलिए छोटे बिजनेस लोन अप्लाई करने से पहले इन सभी चीजों को अपने हक में अपडेट करा लें.

कर्जदाताओं की लोन प्रक्रिया को समझें

अलग-अलग कर्जदाताओं की अलग-अलग बिजनेस लोन की प्रक्रिया होती है. उनकी लोन एप्लिकेशन प्रोसेस की समीक्षा जरूर करें. जब आपको प्रक्रिया के बारे में अच्छे से मालूम चल जाए तो एप्लिकेशन की प्रक्रिया भी आसान हो जाती है. इन दिनों अधिकतर कर्जदाता अपनी जरूरतें और नियम व शर्तें ऑनलाइन डाल देते हैं. सिर्फ आपको उनकी वेबसाइट पर जाकर  लोन प्रक्रिया और फायदों से जुड़ी सारी  जानकारियां जुटानी हैं.

तय करें कि बतौर गारंटी आप क्या रख सकते हैं

यह शुरुआत में ही तय कर लें कि अगर कर्जदाता ने मांगा तो आप लोन की राशि के एवज में किस चीज को बतौर गारंटी रखेंगे. यह गारंटी कर्जदाता के हितों की रक्षा करती है. कई बार कर्जदाता गारंटी के रूप में व्यक्तिगत सहायता भी मांग लेते हैं. ऐसे कर्जदाताओं से जितना हो सके दूर रहें. अपनी संपत्ति को बतौर गारंटी रखने से पहले, उसकी सही कीमत पता कर लें. हालांकि, अगर आपके पास गारंटी रखने के लिए कुछ नहीं है तो असुरक्षित बिजनेस लोन का रुख करें. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां आपको बिना गारंटी दिए ही लोन मिल जाएगा.

प्रस्तावित बिजनेस लोन की शर्तों की अच्छी तरह समीक्षा करें

आखिरी स्टेप ये है कि साइन करने से पहले हर चीज को ध्यान से पढ़ लें. क्योंकि एक बार साइन करने के बाद तीर कमान से निकल जाएगा. इसलिए अग्रीमेंट की हर बारीकी को समझ लें और चेक करें कि इसमें कुछ छिपा हुआ न हो. इसके अलावा फोरक्लोजर चार्जेज, प्रोसेसिंग फीस, पेनाल्टी फीस और अन्य छिपी हुए चार्जेज को भी चेक कर लें. इसके अलावा अगर आप इन नियम व शर्तों की अन्य कर्जदारों से तुलना करेंगे तब भी बेहतर चुनाव कर पाएंगे.

Leave a Comment