पर्सनल लोन्स के बारे में 8 भ्रम, जिनपर आपको विश्वास नहीं करना चाहिए

किसी भी वित्तीय परेशानियों से निपटने के लिए पर्सनल लोन सबसे आसान और तेज तरीका है. इसमें आपको तुरंत ऑनलाइन अप्रूवल, लचीली अवधि, अंत तक कोई पाबंदी नहीं और तुरंत वितरण जैसे विकल्प मिलते हैं. दुर्भाग्यवश इतने सारे फायदे होने के बावजूद कई आधी-अधूरी थ्योरीज भी हैं, जो अकसर पर्सनल लोन के बारे में लोगों को भ्रमित कर देती हैं और वित्तीय आपातकाल में लोगों को और भी महंगे विकल्प का रुख करने पर मजबूर कर देती है.

पहला भ्रम

सिर्फ बैंक ही पर्सनल लोन देते हैं: कई लोग मानते हैं कि सिर्फ बैंक ही पर्सनल लोन देते हैं. जी हां, सभी बैंक पर्सनल लोन देते हैं लेकिन बजाज फिनसर्व, टाटा कैपिटल, एचडीबी फाइनेंशियल सर्विसेज जैसे एनबीएफसी और अर्लीसैलरी जैसे डिजिटल कर्जदाता भी मार्केट में हैं. जब बैंक आपका पर्सनल लोन रिजेक्ट कर देता है तो आप इन एनबीएफसी और डिजिटल कर्जदाताओं के पास पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं क्योंकि इनका एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया बैंकों की तुलना में ज्यादा फ्लेक्सिबल होता है.

दूसरा भ्रम

कम क्रेडिट स्कोर से लोन रिजेक्ट हो जाता है: पर्सनल लोन एलिजिबिलिटी जानने के लिए क्रेडिट स्कोर अहम फैक्टर्स में से एक है. लेकिन क्रेडिट स्कोर आपके लोन अप्रूवल के चांस पर पूरी तरह प्रभाव नहीं डालता. हालांकि 750 या उससे ज्यादा का स्कोर अच्छा माना जाता है लेकिन अगर आपका क्रेडिट स्कोर कम है (750 से कम) तो अन्य फैक्टर्स जैसे आय, कंपनी इत्यादि आपकी लोन एप्लिकेशन को बचाती हैं. ऐसे मामलों में, ब्याज दर ज्यादा होंगी लेकिन आपके पर्सनल लोन मिलने के चांस बन जाएंगे.

तीसरा भ्रम

सिर्फ सैलरी वाले ही ले सकते हैं पर्सनल लोन: ये भी एक बड़ा भ्रम है कि सिर्फ जो लोग नौकरीपेशा हैं और नियमित आय कमाते हैं, सिर्फ उन्हें ही पर्सनल लोन मिलता है. स्वयं-रोजगार/प्रोफेशनल्स जैसे बिजनेसमैन, सीए, डॉक्टर्स इत्यादि भी पर्सनल लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं और कर्जदाता लोन मंजूर करने से पहले उनका क्रेडिट स्कोर और आईटीआर चेक करेगा. कई बैंक ऐसे भी हैं, जो पेंशनर्स को पर्सनल लोन देते हैं.

चौथा भ्रम

लंबा है प्रोसेसिंग टाइम: ऐसा माना जाता है कि पर्सनल लोन की प्रोसेसिंग में काफी समय लगता है और इसमें कई तरह की औपचारिकताएं शामिल हैं. यह सही नहीं है. इन दिनों बैंक काफी डिजिटल हो गए हैं और आप ऑनलाइन ही आसानी से पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर न्यूनतम दस्तावेजों के साथ लोन एप्लिकेशन प्रोसेस करा सकते हैं. साथ ही आप ऑनलाइन ही इंस्टेंट अप्रूवल ले सकते हैं और 3-5 कारोबारी दिनों में पैसे आपके अकाउंट में वितरित हो जाएंगे.

पांचवा भ्रम

कई लोग ऐसा मानते हैं कि पर्सनल लोन पर ब्याज दरें काफी ज्यादा होती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपको पर्सनल लोन 10.99 प्रतिशत से भी कम की ब्याज दरों पर मिल सकता है. जी हां. ये सच है. यह आपके क्रेडिट स्कोर, उम्र, रीपेमेंट हिस्ट्री, एम्प्लॉयर इत्यादि पर निर्भर करता है. इतना ही नहीं, क्रेडिट कार्ड की तुलना में पर्सनल लोन पर ब्याज दरें भी काफी कम होती हैं. क्रेडिट कार्ड की ब्याज दर तो 30 प्रतिशत से ही शुरू होती है. इसलिए, क्रेडिट कार्ड के बजाय पर्सनल लोन हासिल करना हमेशा संभव होता है.

छठा भ्रम

प्री-पेमेंट का कोई विकल्प नहीं: आमतौर पर पर्सनल लोन का समय कम ही होता है. करीब 12 से 60 महीने तक का. कई लोग मानते हैं कि पर्सनल लोन में आपको प्री-पेमेंट का ऑप्शन नहीं मिलता. लेकिन आप अवधि खत्म होने से पहले भी लोन का  भुगतान कर सकते हैं. कई बैंकों का 6 से 12 ईएमआई का लॉक-इन पीरियड होता है और ये ईएमआई चुकाने के बाद आप किसी भी वक्त अवधि खत्म होने से पहले लोन को बंद कर सकते हैं.

सातवां भ्रम

सिर्फ निजी कारणों के लिए ही इस्तेमाल किया जा सकता है पर्सनल लोन: ये भी गलतफहमी में से एक है. पर्सनल लोन का इस्तेमाल आप किसी भी कारण के लिए कर सकते हैं. आप किसी बिजनेस आइडिया में भी इन पैसों को निवेश कर सकते हैं या फिर बिजनेस के लिए उपकरण खरीदने के साथ-साथ कर्मचारियों की तनख्वाह भी दे सकते हैं.

आठवां भ्रम

एक ही समय में विभिन्न कर्जदाताओं के पास पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं: जी हां. आप एक ही समय में कई कर्जदाताओं के पास पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं लेकिन इसकी सलाह नहीं दी जाती है. हर बार आप पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करेंगे और यह क्रेडिट ब्यूरो में बतौर हार्ड इक्वॉयरी के तौर पर रजिस्टर्ड हो जाएगा और आपकी क्रेडिट स्कोर में भी दिखाई देगा. अगर कोई कर्जदाता आपका क्रेडिट स्कोर चेक करेगा तो वह ये इन्क्वॉयरी देख सकेगा और यह सोचेगा कि यह शख्स पैसों का भूखा है. हो सकता है यह देखकर वह आपकी एप्लिकेशन रिजेक्ट कर दे. लिहाजा एक वक्त में एक ही कर्जदाता के पास अप्लाई करना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*