कैसे छोटा बिजनेस लोन व्यापार में इजाफा कर सकता है?

कई बिजनेसमैन मानते हैं कि छोटा बिजनेस लोन तब लिया जाता है, जब फायदा कम हो और व्यापार को बचाना हो. लेकिन सच यह है कि व्यापार की पूरी क्षमता को सामने लाने के लिए बिजनेस लोन लिया जाता है. बिजनेस अगर बढ़ते चरण में हो तो अपर्याप्त पूंजी उसकी राह में रोड़ा बन सकती है. ऐसे मामलों में बिजनेस लोन रुकावटों को दूर करता है और बिजनेस बढ़ाता है.

आइए आपको बताते हैं कि छोटा बिजनेस लोन व्यापार को बढ़ाने में मददगार कैसे हैं.

संसाधनों को किराये पर लें

जब बिजनेस विस्तार के रास्ते पर हो तो इसे बेहतर और अनुभवी संसाधनों की जरूरत होती है ताकि कस्टमर्स के पास सर्वश्रेष्ठ चीज पहुंचे. उपयोगी संसाधन सस्ते में नहीं आते. टैलेंट को हायर करने के लिए बिजनेस मालिक को ज्यादा पूंजी की जरूरत होगी. इसी वक्त के दौरान छोटा बिजनेस लोन काम आता है.

इन्वेंट्री को अपडेट करें: अगर मालिक बड़े ऑर्डर लेना चाहता है तो उसे ज्यादा इन्वेंट्री/स्टॉक की जरूरत होगी. इसका मतलब बेहतर प्रोडक्शन के लिए मशीनों को अपग्रेड करना भी है. उदाहरण के तौर पर अगर किसी कंपनी को बड़ा ऑर्डर मिला है तो उसे अपना प्रोडक्शन बढ़ाना होगा, जिसके लिए हाई-फाई मशीनों  की जरूरत पड़ेगी. हालांकि मशीनों को अपग्रेड करने के लिए भारी-भरकम इन्वेस्टमेंट की जरूरत होगी, जिससे आपकी पूंजी पर नकारात्मक असर पड़ सकता है. यहां आप मशीनरी लोन ले सकते हैं.

अच्छी नकदी प्रवाह

जब बिजनेस मालिक व्यापार को फैलाने पर काम कर रहा हो तो उसे वेंडर्स को समय पर पेमेंट करना होता है. ऐसे में क्लाइंट से पैसा आने में कई बार देरी भी होती है. इस स्थिति में बिजनेस में क्रेडिट क्रंच यानी पूंजी की कमी हो जाती है. इस कमी को पूरा करने में बिजनेस लोन अहम साबित हो सकता है ताकि बेहतर कैश फ्लो बना रह सके. इसके लिए आप शॉर्ट टर्म बिजनेस लोन ले सकते हैं.

मार्केटिंग में निवेश

ब्रांड निर्माण और व्यापार को फैलाने के लिए मार्केटिंग एक्टिविटीज में सही राशि की जरूरत होती है. लेकिन इसके लिए पैसे खर्च होते हैं. मार्केटिंग कैंपेन के लिए टीम के अलावा बजट चाहिए होता है. छोटे व्यापारी अकसर ब्रांड मार्केटिंग के फायदों को निवेश की चिंता में नजरअंदाज कर देते हैं. ग्राहकों में जागरूकता पैदा करने के लिए बिजनेस फैलाने में मार्केटिंग का अहम रोल होता है. मार्केटिंग करने के लिए भी छोटा बिजनेस लोन लिया जा सकता है.

टैक्स में फायदे

जब कोई व्यापारी बिजनेस के लिए लोन लेता है तो उसे टैक्स में भी छूट मिलती हैं. ब्याज चुकौती एक खर्च है, जिसे टैक्स के खिलाफ ढाल के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

छोटे व्यापारी को वित्तीय सेवाओं के बारे में सावधानी से तय करना चाहिए. एक कर्जदाता तय करने से पहले लोन प्रॉडक्ट्स की तुलना करनी चाहिए. अगर आपके मन में कोई सवाल हैं तो कर्ज देने वाली संस्था से उसे क्लियर कर लें. लोन फाइनल करने से पहले नियम व शर्तों को ध्यान से पढ़ लें.

Leave a Comment