अगर CIBIL की डिफॉल्टर सूची में हैं आप तो कैसे मिलेगा लोन? ये हैं तरीके

अगर आप डिफॉल्टर हैं और लोन की राशि भी बकाया है तो आपको कर्ज मिलना काफी मुश्किल है. कम या खराब क्रेडिट स्कोर होने के कारण कई वित्तीय संस्थान आपकी एप्लिकेशन ठुकरा देते हैं. लोन रिजेक्ट होना काफी तनावपूर्ण होता है और तनाव को दूर करना जरूरी है. कई कर्जदाता ऐसे भी हैं, जो खराब क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहकों को भी लोन देते हैं. हम आपको कुछ ऐसे फाइनेंशियल टिप्स बताने जा रहे हैं, जो आपको सही फैसला लेने में मदद करेंगे.

कम या खराब CIBIL स्कोर होने पर कैसे पाएं पर्सनल लोन?

पर्सनल लोन, कार लोन, बिजनेस लोन और होम लोन के लिए CIBIL एक अहम फैक्टर है, जिस पर सभी कर्जदाता विचार करते हैं. इसके जरिए कर्जदाता पर्सनल लोन के लिए आपकी योग्यता को तय करते हैं. खराब क्रेडिट स्कोर वाले आवेदक को गैर-जिम्मेदार या जोखिम वाला ग्राहक माना जाता है. जब आप लोन डिफॉल्ट करते हैं तो CIBIL डिफॉल्टर्स की सूची में रजिस्टर्ड हो जाते हैं.

See also: टॉप शहरों में ऑनलाइन इंस्टेंट पर्सनल लोन अप्लाई करने के फायदे

ऐसी स्थिति में आप कई वर्षों तक मुख्यधारा के कर्जदाताओं से लोन नहीं ले पाते क्योंकि बैंक आपको जोखिम वाला ग्राहक मानेंगे. पर्सनल लोन पाने के लिए आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होना चाहिए लेकिन अपना क्रेडिट स्कोर आप तब तक अच्छा नहीं कर सकते, जब तक आपको पर्सनल लोन न मिले. तो लोन डिफॉल्टर्स होने पर पर्सनल लोन कैसे हासिल कर सकते हैं?

सुरक्षित लोन

आप सुरक्षित निजी ऋण यानी सिक्योर्ड पर्सनल लोन या गारंटी के एवज में लोन अप्लाई कर सकते हैं. जब आप लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो सोना, जमीन, फिक्स्ड डिपॉजिट जैसी संपत्तियां गिरवी रख सकते हैं. कम जोखिम होने के कारण कर्जदाता लोन देने के लिए तैयार हो जाते हैं. अगर आप लोन में चूक करते हैं तो वह आपकी संपत्ति (गारंटी) जब्त कर लेगा.

गारंटर के साथ अप्लाई करें

अगर आपको खराब क्रेडिट स्कोर की वजह से लोन नहीं मिल रहा है तो आप किसी ऐसे गारंटर/सह-आवेदक के साथ अप्लाई कर सकते हैं, जिसका क्रेडिट स्कोर शानदार हो. इस मामले में, गारंटर का क्रेडिट स्कोर माना जाएगा. लेकिन अगर आपने इस लोन पर डिफॉल्ट किया तो बकाया बैलेंस गारंटर से वसूला जाएगा.

अपने मौजूदा बैंक में कोशिश करें

जिस बैंक में आपका सेविंग्स अकाउंट है, ग्राहक को वहां बात करनी चाहिए. आप उनसे बिना किसी झिझक के लोन एप्लिकेशन के रिजेक्ट होने और लोन डिफॉल्ट के बारे में बात कर सकते हैं. अगर आपके बैंक के साथ दोस्ताना रिश्ते हैं तो आपको बैंक किफायती डील दे सकता है.

कर्जदाताओं से कंपनियों के रिश्ते

आमतौर पर, कंपनियों के बैंकों के साथ टाई-अप होते हैं, जो उनके कर्मचारियों को लोन और वित्तीय सुविधाएं देते हैं. अगर आपकी कंपनी के किसी बैंक के साथ टाई-अप है तो आप वहीं से पर्सनल लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

जिस लोन में हुई चूक, उसे करें बंद

अगर आपने किसी पुराने लोन या क्रेडिट कार्ड पर डिफॉल्ट किया है तो यह आपके क्रेडिट कार्ड में दिखाई देता है. क्रेडिट स्कोर आपकी विश्वसनीयता को दर्शाता है. यह जरूर याद रखें कि लोन बंद करने के बाद आपके क्रेडिट रिपोर्ट में लोन का स्टेटस क्लोज्ड आना चाहिए सेटल्ड नहीं क्योंकि सेटलमेंट से आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर नकारात्मक असर पड़ता है. जब आप लोन सेटल करते हैं तो यह दिकाता है कि आपने असली राशि कर्जदाता को नहीं चुकाई और वह नुकसान में रहा. लिहाजा, आपको पहले पुराने लोन बंद करने चाहिए और कर्जदाता से क्लोजर सर्टिफिकेट भी जरूर ले लें.

हालांकि CIBIL डिफॉल्टर लिस्ट में होने के कारण लोन मिलना आसान नहीं है लेकिन सावधानी से आप यह रास्ता भी खोल सकते हैं.

कम CIBIL स्कोर होने का कारण:

1. खराब पेमेंट हिस्ट्री
2. क्रेडिट का ज्यादा इस्तेमाल
3. कई क्रेडिट इन्क्वॉयरी
4.  CIBIL पर गलत रिपोर्ट
5. खराब क्रेडिट

See also: क्या होता है ब्याज दर कैलकुलेटर, जानें इसके बारे में हर बात

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*