क्या बिना डाउन पेमेंट दिए बिजनेस लोन लेना मुमकिन है?

खोज किसी भी बिजनेस के लिए बहुत जरूरी है. लेकिन यह उस वक्त और जरूरी हो जाता है, जब बिजनेस नया हो या हाल ही में शुरू किया गया हो. ऐसी स्थिति में, किसी भी कारोबारी के लिए बिजनेस लोन लेना सबसे आम विकल्प होता है. लेकिन बिजनेस लोन लेने के लिए कुछ जरूरी दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है, जो शायद आपके पास न हों. उसी वक्त आपको बिजनेस लोन के लिए काबिल भी होना है और आपके पास उधार ली गई राशि को चुकाने की क्षमता भी होनी चाहिए. इसके बाद डाउन पेमेंट भी कारोबारियों के लिए अहम चिंता का विषय होता है क्योंकि कई कर्जदाता बिजनेस लोन अप्रूव करने से पहले इसकी मांग करते हैं. लेकिन कुछ ही लोग जानते हैं कि बिना डाउन पेमेंट के भी बिजनेस लोन हासिल किया जा सकता है. आइए बिना डाउन पेमेंट के बिजनेस लोन कैसे लें, इस बारे में डिटेल में चर्चा करते हैं.

क्यों कर्जदाता मांगते हैं डाउन पेमेंट्स?

डाउन पेमेंट्स कर्जदाताओं के लिए शामिल जोखिमों की भरपाई करने में मदद करता है. छोटे या नए बिजनेस के लिए कर्ज देना हमेशा जोखिम भरा होता है क्योंकि उनकी कोई फाइनेंशियल हिस्ट्री नहीं होती ताकि उन पर रीपेमेंट को लेकर विश्वास किया जा सके. लिहाजा कर्जदाता ग्राहकों से डाउन पेमेंट देने को कहते हैं.

अधिकतर कर्जदाता यह जानना चाहते हैं कि ग्राहक लोन में निवेश करें. इससे जोखिम कम होता है. दूसरी ओर, डाउन पेमेंट देने से बिजनेस लोन अप्रूव होने के चांस बढ़ जाते हैं. डाउन पेमेंट देने से ग्राहकों पर विश्वास बढ़ता है और गारंटी देने से आपकी बिजनेस लोन एप्लिकेशन का वजन और भारी हो जाता है. यही कारण है कि सिर्फ कुछ ही कर्जदाता बिजनेस लोन की एप्लिकेशन को बिना डाउन पेमेंट के अप्रूव करते हैं.

बिना डाउन पेमेंट के बिजनेस फंडिंग

यहां हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं, जिनके जरिए आप बिना किसी डाउन पेमेंट या गारंटी के बिजनेस के लिए फंड जुटा सकते हैं.

– मर्चेंट कैश एडवांस
– बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट
– एसएमई लोन
– टर्म लोन
– वर्किंग कैपिटल लोन

बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट

बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट भी एक तरीका है, जिसके जरिए आप बिना डाउन पेमेंट या गारंटी दिए अपने बिजनेस की जरूरतें पूरी कर सकते हैं. यह कार्ड काफी लचीली शर्तों के साथ आता है, जिससे ग्राहक अपनी जरूरत के मुताबिक पैसे निकाल सकते हैं. बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट में पैसे निकासी की एक ऊपरी सीमा होती है और ब्याज सिर्फ उधार ली गई राशि पर ही लगता है. पुनर्भुगतान आप मासिक ईएमआई के जरिए चुका सकते हैं.

SME लोन

ये लोन्स भी बिजनेस लोन होते हैं, जिन्हें बैंक या NBFC उन छोटे एवं मध्यम उद्योगों को देते हैं, जिनमें आगे बढ़ने का माद्दा होता है. इसमें कर्जदाता आमतौर पर कर्ज देते हुए डाउन पेमेंट नहीं मांगते क्योंकि लोन की राशि पारंपरिक बिजनेस लोन की तुलना में कम होती है.

मर्चेंट कैश एडवांस

बिना डाउन पेमेंट या गारंटी के बिजनेस फंडिंग पाने के लिए मर्चेंट कैश एडवांस भी एक तरीका है. यहां सप्लायर्स को वेंडर्स अच्छी खासी रकम मुहैया कराते हैं. इससे छोटे एवं मध्यम बिजनेस वालों को फायदा मिलता है क्योंकि बड़ी इंडस्ट्रीज की तुलना में उन्हें छोटी अवधि के लिए कैश की समस्या से जूझना पड़ता है.

लिहाजा, गारंटी और कैश फ्लो नहीं होने के कारण वे बिजनेस लोन के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाते. मर्चेंट कैश एडवांस उन्हें डिमांड और सप्लाई के अनुपात को बनाए रखने में मदद करता है.

टर्म लोन

इन दिनों नए बिजनेस के लिए सिर्फ बैंक लोन ही विकल्प नहीं है. टर्म लोन भी लोन इंडस्ट्री में नए प्रोडक्ट्स हैं, जिनके जरिए आप अपनी बिजनेस की जरूरतें पूरी कर सकते हैं. ये लोन कम अवधि के लिए उपलब्ध हैं जैसे 1 से 5 साल तक. लोन अग्रीमेंट के तहत आपको नियमित अवधि के तहत भुगतान करना पड़ता है.

SME के तहत वर्किंग कैपिटल लोन्स

किसी भी बिजनेस की ग्रोथ और संचालन के लिए वर्किंग कैपिटल काफी जरूरी है. लेकिन ऐसे कई मौके आते हैं, जब कंपनियां वर्किंग कैपिटल की कमी से जूझती हैं और वे नाकाम हो जाती हैं. ऐसी स्थिति में बैंक या एनबीएफसी के लोन या फिर इन्वेस्टर्स उनको काम चालू रखने में मदद करते हैं. ये लोन हासिल करने बेहद आसान होते हैं क्योंकि इनके लिए कोई गारंटी या डाउन पेमेंट नहीं देनी पड़ती.

ऊपर बताए गए पॉइंट्स आपके लिए ऐसे विकल्प हैं, जिनके जरिए आप बिना गारंटी या डाउन पेमेंट के लोन हासिल कर सकते हैं. लेकिन इन बिजनेस फंडिंग के विकल्पों में से किसी को चुनने के लिए आपको बिजनेस प्लान और जरूरतों को लेकर सुनिश्चित होना पड़ेगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*