क्या होता है सिक्योरिटी के एवज में लोन? जानें इस लोन को कैसे ले सकते हैं?

सिक्योरिटी के एवज में लोन (LAS) को समझना जरूरी है क्योंकि यह कर्ज की सबसे प्रचलित किस्मों में से एक है. यह एक सुरक्षित लोन है और इसे सिक्योरिटी जैसे इंश्योरेंस पॉलिसी, म्यूचुअल फंड्स, नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट इत्यादि के एवज में रखा जाता है. इसके अलावा, सिक्योरिटी के एवज में लोन इन सिक्योरटीज के एवज में मिल सकता है.
– इंश्योरेंस पॉलिसी
– नॉन कन्वर्टिबल डिबेंचर्स
– NABARD बॉन्ड्स
– यूटीआई बॉन्ड्स
– म्युचुअल फंड यूनिट्स
– डीमैट शेयर्स
– नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट या किसान विकास पत्र (KVP),  लेकिन ये सिर्फ डीमैट फॉर्मेट में ही मंजूर होंगी.

सिक्योरिटी के एवज में लोन आवेदक को जल्दबाजी में अपनी सिक्योरिटीज की बिक्री की जरूरत के बिना समय पर पैसों का इंतजाम करने में मदद करता है. किसी आवेदक को कितना फंड मिलता है, वह निर्भर करता है उसके द्वारा गिरवी रखी गई सिक्योरिटीज पर. आमतौर पर ग्राहक के नाम पर करंट अकाउंट खोला जाता है और उस राशि की कैलकुलेशन कर ब्याज दर आंकी जाती है, जो ग्राहक इस्तेमाल की अवधि के दौरान वापस लेता है.

सिक्योरिटी के एवज में लोन के खास फीचर्स

सिक्योरिटी के एवज में लोन एक सुरक्षित लोन है क्योंकि बॉन्ड या शेयरों को गारंटी के रूप में गिरवी रखा जाता है. आम तौर पर इसमें अवधि एक साल की होती है, जिसे जरूरत पड़ने पर रिन्यू किया जा सकता है. लोन की राशि गिरवी रखी गई सिक्योरिटी पर निर्भर करेगी. अगर ग्राहक समय से पहले प्रॉपर्टी के एवज में लोन को चुका देना चाहता है तो उसे कोई प्रीपेमेंट चार्ज भी नहीं चुकाने होंगे.

 

कौन सिक्योरिटीज के एवज में ले सकता है लोन?

हर कर्जदाता की अपनी-अपनी प्राथमिकताएं होती हैं, जिस पर वह लोन देता है. लेकिन ज्यादातर कर्जदाता देखते हैं कि आवेदक की आयु लोन के लिए अप्लाई करते समय 21 साल की होनी चाहिए. अधिकतर मामलों में कर्जदाता नौकरीपेशा और स्वयं रोजगार वाले लोगों को लोन देते हैं. जिन संस्थाओं को कम से कम दो साल का वक्त हो चुका हो और योग्य सिक्योरिटीज हों, वे सिक्योरिटी के एवज में लोन ले सकते हैं.

कर्जदाता ये सिक्योरिटी मंजूर करते हैं, जिनमें शामिल हैं:
– इक्विटी/डीमैट शेयर
– नॉन कन्वर्टिबल
– डिबेंचर्स
– म्युचूअल फंड्स
– बॉन्ड्स एंड गवर्नमेंट स्कीम

अगर आप नौकरी कर रहे हैं तो आपको सिक्योरिटी के एवज में लोन लेने के लिए ये दस्तावेज देने होंगे
– पैन कार्ड
– आधार कार्ड
– पहचान पत्र (बर्थ सर्टिफिकेट, 10वीं की मार्कशीट, पासपोर्ट इत्यादि)
– रिहायश का सबूत (पासपोर्ट इत्यादि)
– इनकम प्रूफ (सैलरी स्लिप)
– पिछले 2-3 साल के आईटीआर रिटर्न्स
– पासपोर्ट साइज फोटो
– पिछले 6 महीने की बैंक स्टेटमेंट
– एक कैंसल्ड चेक
– इन्वेस्टमेंट होल्डिंग प्रूफ
– डीमैट अकाउंट स्टेटमेंट्स

अगर आप स्वयं रोजगार वाले हैं तो आपको सिक्योरिटी के एवज में लोन के लिए ये दस्तावेज देने होंगे:
– पैन कार्ड
– आधार कार्ड
– पहचान पत्र (बर्थ सर्टिफिकेट, 10वीं की मार्कशीट, पासपोर्ट इत्यादि)
– रिहायश का सबूत (पासपोर्ट इत्यादि)
– इनकम प्रूफ (सैलरी स्लिप)
– पिछले 2-3 साल के आईटीआर रिटर्न्स
– पासपोर्ट साइज फोटो
– पिछले 6 महीने की बैंक स्टेटमेंट
– एक कैंसल्ड चेक
– इन्वेस्टमेंट होल्डिंग प्रूफ
– डीमैट अकाउंट स्टेटमेंट्स
– पिछले 2-3 वर्षों की बैलेंस शीट और प्रॉफिट एंड लॉस स्टेटमेंट्स
– ऑफिस का अड्रेस प्रूफ

Leave a Comment