क्या होते हैं पर्सनल लोन फोरक्लोजर चार्जेज, जानें आपको इसे कब चुकाना पड़ता है

घर, कार, बिल्स, एजुकेशन फीस और अन्य खर्चों में आने वाली वित्तीय परेशानियों से निपटने के लिए पर्सनल लोन एक शानदार विकल्प है. जब आपको पर्सनल लोन मिलता है तो आपको एक निश्चित अवधि में मासिक किस्तों में उसे चुकाना पड़ता है, जिसे ईएमआई कहते हैं. लेकिन अगर आप अपनी बची हुई पर्सनल लोन की राशि को एक बार में चुका देना चाहते हैं तो उसे पर्सनल लोन फोरक्लोजर या प्रीपेमेंट कहा जाता है.

पर्सनल लोन फोरक्लोजर के फायदे क्या होते हैं?

क्रेडिट की लागत को घटाने के लिए प्री-क्लोजर किया जाता है. अगर आप एक बार में अपनी लोन राशि चुका देना चाहते हैं तो आप काफी ब्याज बचा सकते हैं.

See also: मेट्रो शहरों में पर्सनल लोन अप्लाई करते वक्त ध्यान रखें ये 5 टिप्स

इसे उदाहरण से समझते हैं

पर्सनल लोन= 2 लाख रुपये

ब्याज दर=15 प्रतिशत

अवधि= 5 साल

ईएमआई=4758 रुपये

पूरी अवधि में कुल ब्याज को आप चुकाएंगे, वो होगा 85,479 रुपये.

पहले वर्ष के खत्म होने तक आप 29,039 रुपये बतौर प्रीमियम और 28,057 रुपये बतौर ब्याज चुकाएंगे. अगर आप अब लोन को बंद कराने का सोचते हैं तो आप ब्याज दर के रूप में 57,422 रुपये बचा सकते हैं.

See also: क्या होता है ब्याज दर कैलकुलेटर, जानें इसके बारे में हर बात

लेकिन यह तभी मुमकिन है, जब कर्जदाता आपसे प्रीपेमेंट पेनाल्टी न ले. अगर आप सोचते हैं कि आप लोन फोरक्लोज कर देंगे तो आपको ऐसे कर्जदाता के पास पर्सनल लोन अप्लाई करना चाहिए, जो प्रीपेमेंट पेनाल्टी न ले. पर्सनल लोन की तरह होम और ऑटो लोन्स पर भी फोरक्लोजर चार्जेज होते हैं.

Leave a Comment